HEALTH

chuna na fayda

*ध्यान रहे पथरी के रोगीओं के लिए चूना वर्जित है**** चूना जो आप पान में खाते है वो सत्तर बीमारी ठीक कर देते है । जैसे किसीको पीलिया हो जाये माने जोंडिस उसकी सबसे अच्छी दावा है चूना ; गेहूँ के दाने के बराबर चूना गन्ने के रस में मिलाकर पिलाने से बहुत जल्दी पीलिया ठीक कर देता है । और ये ही चूना नपुंसकता की सबसे अच्छी दवा है – अगर किसी के शुक्राणु नही बनता उसको अगर गन्ने के रस के साथ चूना पिलाया जाये तो साल देड साल में भरपूर शुक्राणु बन्ने लगेंगे; और जिन माताओं के शरीर में अन्डे नही बनते उनकी बहुत अच्छी दावा है ये चूना । बिद्यार्थीओ के लिए चूना बहुत अच्छी है जो लम्बाई बढाती है – गेहूँ के दाने के बराबर चूना रोज दही में मिलाके खाना चाहिए, दही नही है तो दाल में मिलाके खाओ, दाल नही है तो पानी में मिलाके पियो – इससे लम्बाई बढने के साथ साथ स्मरण शक्ति भी बहुत अच्छा होता है । जिन बच्चो की बुद्धि कम काम करती है मतिमंद बच्चे उनकी सबसे अच्छी दावा है चूना, जो बच्चे बुद्धि से कम है, दिमाग देर में काम करते है, देर में सोचते है हर चीज उनकी स्लो है उन सभी बच्चे को चूना खिलाने से अच्छे हो जायेंगे ।

बहनों को अपने मासिक धर्म के समय अगर कुछ भी तकलीफ होती हो तो उसका सबसे अछि दावा है चूना । और हमारे घर में जो माताएं है जिनकी उम्र पचास वर्ष हो गयी और उनका मासिक धर्म बंध हुआ उनकी सबसे अच्छी दवा है चूना; गेहूँ के दाने के बराबर चूना हरदिन खाना दाल में, लस्सी में, नही तो पानी में घोल के पीना ।

जब कोई माँ गर्भावस्था में है तो चूना रोज खाना चाहिए क्यूकि गर्भवती माँ को सबसे ज्यादा कैल्सियम की जरुरत होती है और चूना कैल्सियम का सब्से बड़ा भंडार है । गर्भवती माँ को चूना खिलाना चाहिए अनार के रस में – अनार का रस एक कप और चूना गेहूँ के दाने के बराबर ये मिलाके रोज पिलाइए नौ महीने तक लगातार दीजिये तो चार फाईदे होंगे – पहला फाईदा होगा के माँ को बच्चे के जनम के समय कोई तकलीफ नही होगी और नोर्मल डिलीवरी होगी, दूसरा बच्चा जो पैदा होगा वो बहुत हस्टपुष्ट और तंदरुस्त होगा , तीसरा फ़ायदा वो बच्चा जिन्दगी में जल्दी बीमार नही पड़ता जिसकी माँ ने चूना खाया , और चौथा सबसे बड़ा लाभ है वो बच्चा बहुत होशियार होता है बहुत Intelligent और Brilliant होता है उसका IQ बहुत अच्छा होता है ।

चूना घुटने का दर्द ठीक करता है , कमर का दर्द ठीक करता है , कंधे का दर्द ठीक करता है, एक खतरनाक बीमारी है Spondylitis वो चुने से ठीक होता है । कई बार हमारे रीड़ की हड्डी में जो मनके होते है उसमे दुरी बड़ जाती है Gap आ जाता है – ये चूना ही ठीक करता है उसको; रीड़ की हड्डी की सब बीमारिया चुने से ठीक होता है । अगर आपकी हड्डी टूट जाये तो टूटी हुई हड्डी को जोड़ने की ताकत सबसे जादा चुने में है । चूना खाइए सुबह को खाली पेट ।

अगर मुह में ठंडा गरम पानी लगता है तो चूना खाओ बिलकुल ठीक हो जाता है , मुह में अगर छाले हो गए है तो चुने का पानी पियो तुरन्त ठीक हो जाता है । शरीर में जब खून कम हो जाये तो चूना जरुर लेना चाहिए , एनीमिया है खून की कमी है उसकी सबसे अच्छी दावा है ये चूना , चूना पीते रहो गन्ने के रस में , या संतरे के रस में नही तो सबसे अच्छा है अनार के रस में – अनार के रस में चूना पिए खून बहुत बढता है , बहुत जल्दी खून बनता है – एक कप अनार का रस गेहूँ के दाने के बराबर चूना सुबह खाली पेट ।

भारत के जो लोग चुने से पान खाते है, बहुत होशियार लोग है पर तम्बाकू नही खाना, तम्बाकू ज़हर है और चूना अमृत है .. तो चूना खाइए तम्बाकू मत खाइए और पान खाइए चुने का उसमे कत्था मत लगाइए, कत्था कैंसर करता है, पान में सुपारी मत डालिए सोंट डालिए उसमे , इलाइची डालिए , लौग डालिए. केशर डालिए ; ये सब डालिए पान में चूना लगाके पर तम्बाकू नही , सुपारी नही और कत्था नही ।
अगर आपके घुटने में घिसाव आ गया और डॉक्टर कहे के घुटना बदल दो तो भी जरुरत नही चूना खाते रहिये और हाड़सिंगार के पत्ते का काड़ा खाइए घुटने बहुत अच्छे काम करेंगे । राजीव भाई कहते है चूना खाइए पर चूना लगाइए मत किसको भी ..ये चूना लगाने के लिए नही है खाने के लिए है ; आजकल हमारे देश में चूना लगाने वाले बहुत है पर ये भगवान ने खाने के लिए दिया है ।
@@@@@@@@@@@@@@@
😖 *"प्राचीन स्वास्थ्य दोहावली"*

पानी में गुड डालिए, बीत जाए जब रात!
सुबह छानकर पीजिए, अच्छे हों हालात!!

*धनिया की पत्ती मसल, बूंद नैन में डार!*
दुखती अँखियां ठीक हों, पल लागे दो-चार!!

*ऊर्जा मिलती है बहुत, पिएं गुनगुना नीर!*
कब्ज खतम हो पेट की, मिट जाए हर पीर!!

*प्रातः काल पानी पिएं, घूंट-घूंट कर आप!*
बस दो-तीन गिलास है, हर औषधि का बाप!!

*ठंडा पानी पियो मत, करता क्रूर प्रहार!*
करे हाजमे का सदा, ये तो बंटाढार!!

*भोजन करें धरती पर, अल्थी पल्थी मार!*
चबा-चबा कर खाइए, वैद्य न झांकें द्वार!!

*प्रातः काल फल रस लो, दुपहर लस्सी-छांस!*
सदा रात में दूध पी, सभी रोग का नाश!!

*प्रातः- दोपहर लीजिये, जब नियमित आहार!*                                                  तीस मिनट की नींद लो, रोग न आवें द्वार!!

*भोजन करके रात में, घूमें कदम हजार!*
डाक्टर, ओझा, वैद्य का , लुट जाए व्यापार !!

*घूट-घूट पानी पियो, रह तनाव से दूर!*
एसिडिटी, या मोटापा, होवें चकनाचूर!!

*अर्थराइज या हार्निया, अपेंडिक्स का त्रास!*
पानी पीजै बैठकर,  कभी न आवें पास!!

*रक्तचाप बढने लगे, तब मत सोचो भाय!*
सौगंध राम की खाइ के, तुरत छोड दो चाय!!

*सुबह खाइये कुवंर-सा, दुपहर यथा नरेश!*
भोजन लीजै रात में, जैसे रंक सुरेश!!

*देर रात तक जागना, रोगों का जंजाल!*
अपच,आंख के रोग सँग, तन भी रहे निढाल^^

*दर्द, घाव, फोडा, चुभन, सूजन, चोट पिराइ!*
बीस मिनट चुंबक धरौ, पिरवा जाइ हेराइ!!

*सत्तर रोगों कोे करे, चूना हमसे दूर!*
दूर करे ये बाझपन, सुस्ती अपच हुजूर!!

*भोजन करके जोहिए, केवल घंटा डेढ!*
पानी इसके बाद पी, ये औषधि का पेड!!

*अलसी, तिल, नारियल, घी सरसों का तेल!*
यही खाइए नहीं तो, हार्ट समझिए फेल!

*पहला स्थान सेंधा नमक, पहाड़ी नमक सु जान!*
श्वेत नमक है सागरी, ये है जहर समान!!

*अल्यूमिन के पात्र का, करता है जो उपयोग!*
आमंत्रित करता सदा, वह अडतालीस रोग!!

*फल या मीठा खाइके, तुरत न पीजै नीर!*
ये सब छोटी आंत में, बनते विषधर तीर!!

*चोकर खाने से सदा, बढती तन की शक्ति!*
गेहूँ मोटा पीसिए, दिल में बढे विरक्ति!!

*रोज मुलहठी चूसिए, कफ बाहर आ जाय!*
बने सुरीला कंठ भी, सबको लगत सुहाय!!

*भोजन करके खाइए, सौंफ,  गुड, अजवान!*
पत्थर भी पच जायगा, जानै सकल जहान!!

*लौकी का रस पीजिए, चोकर युक्त पिसान!*
तुलसी, गुड, सेंधा नमक, हृदय रोग निदान!

*चैत्र माह में नीम की, पत्ती हर दिन खावे !*
ज्वर, डेंगू या मलेरिया, बारह मील भगावे !!

*सौ वर्षों तक वह जिए, लेते नाक से सांस!*
अल्पकाल जीवें, करें, मुंह से श्वासोच्छ्वास!!

*सितम, गर्म जल से कभी, करिये मत स्नान!*
घट जाता है आत्मबल, नैनन को नुकसान!!

*हृदय रोग से आपको, बचना है श्रीमान!*
सुरा, चाय या कोल्ड्रिंक, का मत करिए पान!!

*अगर नहावें गरम जल, तन-मन हो कमजोर!*
नयन ज्योति कमजोर हो, शक्ति घटे चहुंओर!!

*तुलसी का पत्ता करें, यदि हरदम उपयोग!*
मिट जाते हर उम्र में,तन में सारे रोग। 🌸

@@@@@@@@@@@@


🙏🙏निरोगधाम पत्रिका🙏🙏

        👉जीवनोपयोगी बातें :-

1- सुबह उठ कर कैसा पानी पीना चाहिए?
उत्तर:   हल्का गर्म
2- पानी पीने का क्या तरीका होता है?
उत्तर  सिप सिप करके व नीचे बैठ कर.
3 -खाना कितनी बार चबाना चाहिए?
उत्तर:  32 बार
4- पेट भर कर खाना कब खाना चाहिए?
उत्तर:  सुबह.
5- सुबह का खाना कब तक खा लेना चाहिए?
उत्तर: सूरज निकलने के ढाई घण्टे तक.
6- सुबह खाने के साथ क्या पीना चाहिए?
उत्तर:  जूस
7- दोपहर को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?
उत्तर:  लस्सी/छाछ.
8 -रात को खाने के साथ क्या पीना चाहिए?
उत्तर:  दूध.
9 -खट्टे फल किस समय नही खाने चाहिए?
उत्तर:  रात को.
10 -लस्सी खाने के साथ कब पीनि चाहिए?
उत्तर:  दोपहर को.
11 -खाने के साथ जूस कब लिया जा सकता है?
उत्तर:  सुबह.
12 -खाने के साथ दूध कब ले सकते है?
उत्तर:  रात को.
13 -आईसक्रीम कब खानी चाहिए?
उत्तर:  कभी नही.
14- फ्रीज़ से निकाली हुई चीज कितनी देर बाद खानी चाहिए?
उत्तर:  1 घण्टे बाद.
15- क्या कोल्ड ड्रिंक पीना चाहिए?
उत्तर:  नहीं.
16 -बना हुआ खाना कितनी देर बाद तक खा लेना चाहिए?
उत्तर:  40 मिनट.
17--रात को कितना खाना खाना चाहिए?
उत्तर:   न के बराबर.
18 -रात का खाना किस समय कर लेना चाहिए?
उत्तर:- सूरज छिपने से पहले.
19 -पानी खाना खाने से कितने समय पहले पी सकते हैं?
उत्तर:  48 मिनट
20-क्या रात को लस्सी पी सकते हैं?
उत्तर:  नही.
21 -सुबह खाने के बाद क्या करना चाहिए?
उत्तर:  काम
22 -दोपहर को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए ?
उत्तर:  आराम.
23 -रात को खाना खाने के बाद क्या करना चाहिए?
उत्तर:  500 कदम चलना चाहिए.
24 -खाना खाने के बाद हमेशा क्या करना चाहिए?
उत्तर:  वज्र आसन.
25 -खाना खाने के बाद वज्रासन कितनी देर करना चाहिए?                                         उत्तर:  5-10 मिनट.
26 -सुबह उठ कर आखों मे क्या डालना चाहिए?
उत्तर:  मुंह की लार.
27 -रात को किस समय तक सो जाना चाहिए
उत्तर:  9-10बजे तक.
28- तीन जहर के नाम बताओ?
उत्तर: चीनी, मैदा, सफेद नमक.
29 -दोपहर को सब्जी मे क्या डाल कर खाना चाहिए?
उत्तर:  अजवायन.
30 -क्या रात को सलाद खानी चाहिए?
उत्तर:  नहीं.
31 -खाना हमेशा कैसे खाना चाहिए
उत्तर:  नीचे बैठकर व खूब चबाकर.
32 -चाय कब पीनी चाहिए?
उत्तर:  कभी नहीं.
33- दूध मे क्या डाल कर पीना चाहिए?
उत्तर:  हल्दी.
34--दूध में हल्दी डालकर क्यों पीनी चाहिए?
उत्तर:  कैंसर ना हो इसलिए.
35 -कौन सी चिकित्सा पद्धति ठीक है?
उत्तर:  आयुर्वेद.
36 -सोने के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?
उत्तर:  अक्टूबर से मार्च (सर्दियों मे)?
37--ताम्बे के बर्तन का पानी कब पीना चाहिए?
उत्तर:   जून से सितम्बर(वर्षा ऋतु).
38 -मिट्टी के घड़े का पानी कब पीना चाहिए?
उत्तर:  मार्च से जून (गर्मियों में).
39 -सुबह का पानी कितना पीना चाहिए?
उत्तर:  कम से कम 2-3 गिलास.
40 -सुबह कब उठना चाहिए?
उत्तर:  सूरज निकलने से डेढ़ घण्टा पहले.
आपसे विनम्र निवेदन है कि यह मैसेज कम से कम 2 लोगो को भेजें:
@@@@@@@@@@@@@@@@@

विटामिन B-12
--------------
      शाकाहारी तरीके से घर पर बनाने की विधि

➡एक कटोरी पके हुए चावल लै (Take a bowl of cooked or boiled rice).
➡ चावलों को ठंडा होने दें।
➡ ठंडा होने पर इन चावलों को एक कटोरी दही में अच्छी तरह mix कर दें।
➡ इन mix किये चावलों को रात भर या कम से कम 3-4 घण्टों के लिए fridge में या किसी ठंडी जगह पर रख दें।
➡ बस प्रचुर मात्रा में विटामिन B-12 युक्त 'Fermented Curd-Rice ' खाने के लिए तैयार हैं।
➡ Fermentation की वजह से Vitamin B-12 के अलावा इसमें अन्य B-Complex विटामिन भी पैदा हो जाते हैं।
➡ दही में Lactobacillus नामक Bacteria मौजूद होता है। यह हमारा मित्र bacteria है। यह bacteria जब चावलों के ऊपर action करता है तो B-Complex vitamins पैदा होते हैं और इस विधी को Fermentation कहते हैं।
➡ इन fermented Curd-Rice को और अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए इनमें इमली की चटनी मिला कर भी खा सकते हैं। चटनी मिलाने पर यह इतने अधिक स्वादिष्ट हो जाते हैं कि बच्चे भी इन्हें दही -भल्लों की चाट की तरह बड़े चाव से खाते खा जाते हैं।
➡ इस विधी से बने Fermented food को pre- digested food भी कहते हैं क्योंकि friendly bacteria के action से यह आधे हजम तो पहले ही हो जाते हैं।
➡ यह इतने अधिक सुपाच्य होते हैं कि जिसको कुछ भी हजम न होता हो उसे भी हजम हो जाते हैं।
➡ पेट की लगभग हर बिमारी का रामबाण इलाज हैं fermented Curd-Rice.
➡ जिन्हें कुछ भी हजम न होता हो या जिनमें विटामिन B-12 की बहुत अधिक कमी हो वह प्रतिदिन तीनों समय भी इन्हें खा सकते हैं। एक महीने में ही अच्छे परिणाम सामने आएंगे।
➡ दही में चावल की बजाये रोटी से भी Fermentation कर सकते हैं। बस चावल की बजाये दही में रोटी डालकर fridge में कम से कम 3-4 घंटों के लिए रखना है , बाकी विधी वही है।
@@@@@@@@@@@@@
MEDICAL FITNESS
((( PREVENTION IS BETTER THAN CURE )))

MEDICAL FITNESS:-
----------------------

         " CHOLESTEROL "
           ------------------
Cholesterol ---   <  200
HDL  ---  40  ---  60
LDL  ---    <  100
VLDL --     <  30
Triglycerides --   <  150
-----------------------------

         CHOLESTEROL
         ----------------
Borderline --200 -- 239
High ----    >  240
V.High --    >  250
-----------------------------

            LDL
           ------
Borderline --130 ---159
High ---  160  ---  189
V.High --  > 190
-----------------------------

           TRIGLYCERIDES
           -----------------
Borderline - 150 -- 199
High --   200  ---  499
V.High --     >   500
-----------------------------

     
        PLATELETS COUNT
       ----------------------
1.50  Lac  ----  4.50 Lac
-----------------------------

              BLOOD
             -----------
Vitamin-D --  50   ----  80
Uric Acid --  3.50  ---  7.20
------------------------------

            KIDNEY
           ----------
Urea  ---   17   ---   43
Calcium --  8.80  --  10.60
Sodium --  136  ---  146
Protein  --   6.40  ---  8.30
------------------------------


           HIGH BP
          ----------
120/80 --  Normal
130/85 --Normal  (Control)
140/90 --  High
150/95 --  V.High
--------------------------------

         LOW BP
        ---------
120/80 --  Normal
110/75 --  Normal  (Control)
100/70 --  Low
90//65 --   V.Low
-------------------------------

              SUGER
             ---------
Glucose (F) --  70  ---  100
(12 hrs Fasting)
Glucose (PP) --  70  --- 140
(2 hrs after eating)
Glucose (R) --  70  ---  140
(After 2 hrs)
--------------------------------
   
             HAEMOGLOBIN
            -------------------
Male --  13  ---  17
Female --  11 ---  15
RBC Count  -- 4.50 -- 5.50
                           (million)
------------------------------

           PULSE
          --------
72  per minute (standard)
60 --- 80 p.m. (Normal)
40 -- 180  p.m.(abnormal)
-----------------------------

          TEMPERATURE
          -----------------
98.4 F    (Normal)
99.0 F Above  (Fever)

🙏🙏 Please help your Relatives, Friends, Near & Dears by sharing this information
@@@@@@@@@@@@@@@@@

कैसे करें निगेटिव थॉट्स को पॉजिटिव में कन्वर्ट? 💐

☆ "हम जो सोचते हैं, वो बन जाते हैं" ☆




💞Law Of Attraction (LOA) अर्थात् आकर्षित करने का नियम कहता है कि हम जो भी सोचते हैं उसे अपने जीवन में आकर्षित करते हैं, फिर चाहे वो चीज अच्छी हो या बुरी.

उदाहरण के लिए: --- अगर कोई सोचता है कि वो हमेशा परेशान रहता है, बीमार रहता है और उसके पास पैसों कि कमी रहती है तो असल जिंदगी में भी ब्रह्माण्ड घटनाओं को कुछ ऐसे सेट करता है कि उसे अपने जिंदगी में परेशानी, बीमारी और तंगी का सामना करना पड़ता है.
वहीँ दूसरी तरफ अगर वो सोचता है कि वो खुशहाल है, सेहतमंद है और उसके पास खूब पैसे हैं तो LOA कि वजह से असल जिंदगी में भी उसे खुशहाली, अच्छी सेहत और समृद्धि देखने को मिलती है.

🍁 "वास्तव में हम जो सोचते हैं, वो बन जाते हैं"

🍁 "हम वो हैं जो हमें हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का ध्यान रखिये कि आप क्या सोचते हैं. शब्द गौण हैं. विचार रहते हैं, वे दूर तक यात्रा करते हैं "

जो लोग LOA मानते हैं वे समझते हैं कि positive सोचना कितना ज़रूरी है ... वे जानते हैं कि हर एक negative thought हमारी life को positivity से दूर ले जाती है और हर एक positive thought life में खुशियां लाती है.

👼👼और किसी ने कहा भी है, "अगर इंसान जानता कि उसकी सोच कितनी पावरफुल है तो वो कभी निगेटिव नहीं सोचता!"

पर क्या हमेशा positive सोचना संभव है?

यहीं पर काम आते हैं हमारे but लेकिन, किन्तु, परन्तु ...

दोस्तों, वैसे तो ये शब्द ज्यादातर negative context में use होते हैं .. 

  : - आप लोगों को कहते सुन सकते हैं:
--- मैं सफल हो जाता लेकिन ...
--- सब सही चल रहा था किन्तु ... etc

पर हम इन शब्दों का प्रयोग negative sentences के अंत में करके उन्हें ➡ positive में convert कर सकते हैं.

🔑🔑कुछ examples से समझते हैं: --- 

जैसे ही आपके मन में विचार आये, "दुनिया बहुत बुरी है" तो आप इतना कह कर या सोच कर रुके नहीं, 
तुरंत realize करें कि आपने एक negative sentence बोला है इसलिए तुरंत alert हो जाएं .. 
और sentence को कुछ ऐसे पूरा करें ---- 
"दुनिया बहुत बुरी है, लेकिन अब चीजें बदल रही हैं, बहुत से अच्छे लोग समाज में अच्छाई का बीज बो रहे हैं और सब ठीक हो रहा है"

🔑🔑कुछ और examples देखते हैं: - 
👉मैं पढ़ने में कमजोर हूँ,
लेकिन अब मैंने मेहनत शुरू कर दी है और जल्द ही मैं पढ़ाई में भी अच्छा हो जाऊँगा.

👉मेरा boss बहुत #% $% है, 
पर धीरे -धीरे वो बदल रहे हैं और उनको ज्ञान भी बहुत है, मुझे काफी कुछ सीखने को मिलता है उनसे.

👉मेरे पास पैसे नहीं हैं, 
लेकिन मुझे पता है मेरे पास बहुत पैसा आने वाला है, इतना कि न मैं सिर्फ अपने बल्कि अपने अपनों के भी सपने पूरे कर सकूँ.

👉मेरे साथ हमेशा बुरा होता है, 
लेकिन मैं देख रहा हूँ कि पिछले कुछ दिनों से सब अच्छा अच्छा ही हो रहा है, और आगे भी होगा.

👉मेरे बच्चे की शादी नहीं हो रही, 
परंतु अब मौसम शादीयों का है, भाग्य ने उसके लिए बहुत ही बेहतरीन रिश्ता सोच रखा होगा, जो जल्द ही तय होगा.

🌞🌟प्यारें दोस्तों, 
यहाँ सबसे महत्वपूर्ण बात है ये realize करना कि कब आपके मन में एक Negative thought आई है और तुरंत alert हो कर ... 
इसे "लेकिन" लगा कर positive में convert कर देना 

और ये आपको सिर्फ तब नहीं करना जब आप किसी के सामने बात कर रहे हो.

सबसे अधिक तो आपको ये अकेले रहते हुए अपने साथ करना है, आपको अपनी सोच पर ध्यान देना है, aware रहना है कि आपकी thoughts positive हैं या negative ?? 

और जैसे ही negative thought आये आपको तुरंत उसे positive में mould कर देना है.

और एक चीज आप इस बात की चिंता ना करें की आपने 'लेकिन' के बाद जो लाइन जोड़ी है वो सही है या गलत, 

आपको तो बस एक सकारात्मक वाक्य जोड़ना है, और आपका subconscious mind उसे ही सही मानेगा और ब्रह्माण्ड आपके जीवन में वैसे ही अनुभव प्रस्तुत करेगा!

👑ये तो आसान लग रहा है !! 
हो सकता है ये आपको बड़ा simple लगे, कुछ लोगों के लिए वाकई में हो भी, पर maximum लोगों के लिए thoughts को control करना और उनके प्रति aware रहना चैलेंजिंग होता है.

इसलिए अगर आप इस तरीके को practice करते वक़्त कई बार negative thoughts को miss भी कर जाते हैं तो no need to worry ... 

जैसे तमाम चीजों को practice से सही किया जा सकता है वैसे ही thoughts को भी practice से positivity me Mould िकया जा सकता है. ...  
😇💐💐💐💐💐💐💐💐🌹🌹🌹🌹🌹🎉😇

@@@@@@@@@@@@@@@

Unapani effect of vitamin B12 can lead to brain, preventing Know Tips!

In the body due to deficiency of B12 anemia, constipation, tingling hands and feet, that's memory should be minimized, embarrassment and loss of symptoms such as lethargy, loss occurs. That gives a diagnosis of B12 deficiency in the body. In addition to increasing age, such as brain power is low. The impact of the disease is seen a lot of people around us, so here are some general tips to increase the amount of B12 in the body we ask that you are asking.

Balance of B12 in the body increase
Enough to eat healthy foods insist. Dairy products like milk, yogurt, cheese, which make maximum use of
Fermentation with a product such as South Indian, handavo, dhokla, eat more foods like song
Your routine will benefit from adding the eggs.
Nonaveja levels of B12 have more food, even if you do not eat dairy products consumed in nonaveja should do more
If you suffer from B12 deficiency can affect memory, to make it so
Before going to any meeting or exam over three minutes cyumingama are chewed to relieve stress.
Brain exercise regularly to keep fit.
Walking, aerobic exercise increases brain power.
Avoid excessive fat diet.
Cross Puzzle, Sudoku, rubika Cube, chess games, etc. It is a kind of mental exercise.

Soil is the main source of the bacteria, B12, B12, as well as eggs, fish, meat and dairy prodakatamanthi have been achieved. Food from the stomach to the small intestine intrinisika factor two to five mg B12 is stored in the liver. But, in addition to pure vegetarian intrinisika factor whose body liver stores B12 turmoil occurring outside rather than outside the body and acidity diabetes pills as well as long-standing belly B12 deficiency diseases may result. As well as being caused by a deficiency of the mineral votaranam more about research using B12 is found to be running.

What to do to prevent this defect?
When peta nayurolojikala and enimiyanam symptoms should be lifted as soon as B12 reports. This report PG-B12 levels of 216 to 900 mL (milliliters per gram) of less than 200 less than 20 ingestion intake of B12 to B12 is stored in the liver. Then again, as well as an injection of B12 to B12 every month by reports must be.

@@@@@@@@@@@@@@

मित्रो हमारे देश मे 3000 साल पहले एक ऋषि हुए जिनका नाम था बागवट जी! वो 135 साल तक जीवित रहे! उन्होने अपनी पुस्तक अशटांग हिरद्यम मे स्वस्थ्य रहने के 7000 सूत्र लिखे! उनमे से ये एक सूत्र राजीव दीक्षित जी की कलम से आप पढ़ें!
_________________________________

बागवट जी कहते है, ये बहुत गहरी बात वो ये कहते है जब आप भोजन करे कभी भी तो भोजन का समय थोडा निश्चित करें. भोजन का समय निश्चित करें. ऐसा नहीं की कभी भी कुछ भी खा लिया. हमारा ये जो शरीर है वो कभी भी कुछ खाने के लिए नही है. इस शरीर मे जठर है, उससे अग्नि प्रदिप्त होती है. तो बागवटजी कहते है की, जठर मे जब अग्नी सबसे ज्यादा तीव्र हो उसी समय भोजन करे तो आपका खाया हुआ, एक एक अन्न का हिस्सा पाचन मे जाएगा और रस मे बदलेगा और इस रस में से मांस, मज्जा, रक्त, मल, मूत्रा, मेद और आपकी अस्थियाँ इनका विकास होगा.

हम लोग कभी भी कुछ भी खाते रहते हैं. ये कभी भी कुछ भी खाने पद्ध्ती भारत की नहीं है, ये युरोप की है. युरोप में doctors वो हमेशा कहते रहते है की थोडा थोडा खाते रहो, कभीभी खाते रहो. हमारे यहाँ ये नहीं है, आपको दोनों का अंतर समझाना चाहता हूँ. बागवटजी कहते है की, खाना खाते का समय निर्धरित करें. और समय निर्धरित होगा उससे जब आप के पेट में अग्नी की प्रबलता हो. जठरग्नि की प्रबलता हो. बागवटजी ने इस पर बहुत रिसर्च किया और वो कहते है की, डेढ दो साल की रिसर्च के बाद उन्हें पता चला की जठरग्नि कौन से समय मे सबसे ज्यादा तीव्र होती है. तो वो कहते की सूर्य का उदय जब होता है, तो सूर्य के उदय होने से लगभग ढाई घंटे तक जठरग्नि सबसे ज्यादा तीव्र होती है.

मान लो अगर आप चेन्नई मे हो तो 7 बजे से 9 बजे तक जठरग्नि सबसे ज्यादा तीव्र होगी. हो सकता है ये इसी सूत्रा अरूणाचल प्रदेश में बात करूँ तो वो चार बजे से साडे छह का समय आ जाएगा. क्यांे कि अरूणाचल प्रदेश में सूर्य 4 बजे निकल आता है. अगर सिक्कीम मे कहूँगा तो 15 मिनिट और पहले होगा, यही बात अगर मे गुजरात मे जाकर कहूँगा तो आपसे समय थोडा भिन्न हो जाएगा तो सूत्रा के साथ इसे ध्यान मे रखे. सूर्य का उदय जैसे ही हुआ उसके अगले ढाई घंटे तक जठर अग्नी सबसे ज्यादा तीव्र होती है. तो बागवटजी कहते है इस समय सबसे ज्यादा भोजन करें.

बागवटजी ने एक और रिसर्च किया था, जैसे शरीर के कुछ और अंग है जैसे हदय है, जठर, किडनी, लिव्हर है इनके काम करने का अलग अलग समय है! जैसे दिल सुबह के समय सबसे अधिक काम करता है! 4 साढ़े चार बजे तक दिल सबसे ज्यादा सक्रीय होता है और सबसे ज्यादा heart attack उसी समय मे आते है. किसी भी डॉक्टर से पूछ लीजीए, क्योकि हदय सबसे ज्यादा उसी समय में तीव्र. सक्रीय होगा तो हदय घात भी उसी समय होगा इसलिए 99% हार्ट अॅटॅक अर्ली मॉनिंग्ज मे ही होते है. इसलिए तरह हमारा लिव्हर किडनी है, एक सूची मैने बनाई है, बाहर पुस्तको मे है. संकेतरूप मे आप से कहता हूँ की शरीर के अंग का काम करने का समय है, प्रकृती ने उसे तय किया है. तो आप का जठर अग्नी सुबह 7 से 9.30 बजे तक सबसे ज्यादा तीव्र होता है तो उसी समय भरपेट खाना खाईए.

ठीक है. फिर आप कहेगे दोपहर को भूख लगी है तो थोडा और खा लीजीए. लेकीन बागवट जी कहते है की सुबह का खाना सबसे ज्यादा. अगर आज की भाषा में अगर मे कहूँ तो आपका नाष्टा भरपेट करे. और अगर आप दोपहर का भोजन आप कर रहे है तो बागवटजी कहते है की, वो थोडा कम करिए नाश्ते से थोडा 1/3 कम कर दीजीए और रात का भोजन दोपहर के भोजन का 1/3 कर दीजीए. अब सीधे से आप को कहता हूँ. अगर आप सवेरे 6 रोटी खाते है तो दोपहर को 4 रोटी और शाम को 2 रोटी खाईए. अगर आप को आलू का पराठा खाना है आपकी जीभ स्वाद के लिए मचल रही है तो बागवटजी कहते है की सब कुछ सवेरे खाओ, जो आपको खानी है सवेरे खाओ, हाला की अगर आप जैन हो तो आलू और मूली का भी निषिध्द है आपके लिए फिर अगर जो जैन नहीं है, उनके लिए? आपको जो चीज सबसे ज्यादा पसंद है वो सुबह आओ. रसगुल्ला, खाडी जिलेबी, आपकेा पसंद है तो सुबह खाओ. वो ये कहते हे की इसमें छोडने की जरूरत नहीं सुबह पेट भरके खाओ तो पेट की संतुष्टी हुई, मन की भी संतुष्टी हो जाती है.

और बागवटजी कहते है की भोजन में पेट की संतुष्टी से ज्यादा मन की संतुष्टी महत्व की है.
मन हमारा जो है ना, वो खास तरह की वस्तुये जैसे, हार्मोन्स, एंझाईम्स से संचालित है. मन को आज की भाषा में डॉक्टर लोग जो कहते हैं, हाला की वो है नहीं लेकिन डाक्टर कहते हैं मन पिनियल गलॅंड हैं, इसमे से बहुत सारा रस निकलता है. जिनको हम हार्मोन्स, एंझाईम्स कह सकते है ये पिनियल ग्लॅंड (मन) संतुष्टी के लिए सबसे आवश्यक है, तो भोजन आपको अगर तृप्त करता है तो पिनियललॅंड आपकी सबसे ज्यादा सक्रीय है तो जो भी एंझाईम्स चाहीए शरीर को वो नियमित रूप मंे समान अंतर से निकलते रहते है. और जो भोजन से तृप्ती नहीं है तो पिनियल ग्लॅंड मे गडबड होती है. और पिनियल ग्लॅंड की गडबड पूरे शरीर मे पसर जाती है. और आपको तरह तरह के रोगो का शिकार बनाती है. अगर आप तृप्त भोजन नहीं कर पा रहे तो निश्चित 10-12 साल के बाद आपको मानसिक क्लेश होगा और रोग होंगे. मानसिक रोग बहुत खराब है. आप सिझोफ्रनिया डिप्रेशन के शिकार हो सकते है आपको कई सारी बीमारीया, 27 प्रकार की बीमारीया आ सकती है,. कभी भी भोजन करे तो, पेट भरे ही, मन भी तृप्त हो. ओर मन के भरने और पेट के तृप्त होने का सबसे अच्छा समय सवेरे का है.

अब मैने (राजीव भाई ने) ये बागवटजी के सूत्रों को चारो तरफ देखना शुरू किया तो मुझे पता चला की मनुष्य को छोडकर जीव जगत का हर प्राणी इस सूत्रा का पालन कर रहा है. मनुष्य अपने को होशियार समझता है. लेकिन मनुष्य से ज्यादा होशियारी जीव जगत के प्राणीयों मे है. आप चिडीया को देखो, कितने भी तरह की चिडीये, सबेरे सुरज निकलते ही उनका खाना शुरू हो जाता है, और भरपेट खाती है. 6 बजे के आसपास राजस्थान, गुजरात में जाओ सब तरह की चिडीया अपने काम पर लग जाती है. खूब भरपेट खाती है और पेट भर गया तो चार घंटे बाद ही पानी पीती है. गाय को देखिए सुबह उठतेही खाना शुरू हो जाता है. भैंस, बकरी, घोडा सब सुबह उठते ही खाना खाना शुरू करंगे और पेट भरके खाएँगे. फिर दोपहर को आराम करेंगे तो यह सारे जानवर, जीवजंतू जो हमारी आँखो से दीखते है और नही भी दिखते ये सबका भोजन का समय सवेरे का हैं. सूर्योदय के साथ ही थे सब भोजन करते है. इसलिए, थे हमसे ज्यादा स्वस्थ रहते है.

मैने आपको कई बार कहा है आप उस पर हँस देते है किसी भी चिडीया को डायबिटीस नही होता किसी भी बंदर को हार्ट अॅटॅक नहीं आता. बंदर तो आपके नजदीक है! शरीर रचना मे बस बंदर और आप में यही फरक है की बंदर को पूछ है आपको नहीं है बाकी अब कुछ समान है. तो ये बंदर को कभी भी हार्ट अॅटॅक, डासबिटीस, high BP, नहीं होता.

मेरे एक बहुत अच्छे मित्रा है, डॉ. राजेंद्रनाथ शानवाग. वो रहते है कर्नाटक में उडूपी नाम की जगह है वहाँपर रहते है. बहुत बडे, प्रोफेसर है, मेडिकल कॉलेज में काम करते है. उन्होंने एक बडा गहरा रिसर्च किया .की बंदर को बीमार बनाओ! तो उन्होने तरह तरह के virus और बॅक्टेरिया बंदर के शरीर मे डालना शुरू किया, कभी इंजेक्शन के माध्यम से कभी किसी माध्यम से. वो कहते है, मैं 15 साल असफल रहाँ. बंदर को कुछ नहीं हो सकता. और मैने कहा की आप ये कैसे कह सकते है की, बंदर कुछ नहीं हो सकता, तब उन्हांने एक दिन रहस्य की बात बताई वो आपको भी, बता देता हूँ. की बंदर का जो है न RH factor दुनिया में, सबसे आदर्श है, और कोई डॉक्टर जब आपका RH factor नापता है ना! तो वो बंदर से ही कंम्पेअर करता है, वो आपको बताता नहीं ये अलग बात है. कारण उसका ये है की, उसे कोई बीमारी आ ही नहीं सकती. ब्लड मे कॉलेस्टेरॉल बढता ही नहीं. ट्रायग्लेसाईड कभी बढती नहीं डासबिटीस कभी हुई नहीं. शुगर कितनी भी बाहर से उसके शरीर मे डंट्रोडयूस करो, वो टिकती नहीं. तो वो प्रोफेसर साहब कहते है की, यार ये यही चक्कर है, की बंदर सवेरे सवेरेही भरपेट खाता है. जो आदमी नहीं खा पाता.

तो वो प्रोफेसर रवींद्रनाथ शानवागने अपने कुछ मरींजों से कहा की देखो भया, सुबह सुबह भरपेट खाओ .तो उनके कई मरीज है वो मरीज उन्हे बताया की सुबह सुबह भरपेट खाना खाओ तो उनके मरीज बताते है की, जबसे उन्हांने सुबह भरपेट खाना शुरू किया तो, डासबिटीस माने शुगर कम हो गयी, किसी का कॉलेस्टेरॉल कम हो गया, किसी के घटनों का दर्द कम हो गया कमर का दर्द कम हो गया गैस बनाना बंद हो गई पेट मे जलन होना, बंद हो गयी नींद अच्छी आने लगी ..... वगैरा ..वगैरा. और ये बात बागवटजी 3500 साल पहले कहते ये की सुबह की खाना सबसे अच्छा. माने जो भी स्वाद आपको पसंद लगता है वो सुबह ही खाईए.

तो सुबह के खाने का समय तय करिये. तो समय मैने आपका बता दिया की, सुरज उगा तो ढाई घंटे तक. माने 9.30 बजे तक, ज्यादा से ज्यादा 10 बजे तक आपक भोजन हो जाना चाहिए. और ये भोजन तभी होगा जब आप नाश्ता बंद करेंगे. ये नाष्ता हिंदुस्थानी चीज नहीं है. ये अंग्रेजो की है और आप जानते है हमारे यहाँ क्या चक्कर चल गया है, नाष्टा थोडा कम, करेंगे, लंच थोडा जादा करेंगे, और डिनर सबसे ज्यादा करेंगे. सर्वसत्यानाष. एकदम उलटा बागवटजी कहेते है की, नाष्टा सबसे ज्यादा करो लंच थोडा कम करो और डिनर सबसे कम करो. हमारा बिलकूल उलटा चक्कर चल रहा है!

ये अग्रेज और अमेरिकीयो के लिए नाष्टा सबसे कम होता है कारण पता है ?? वो लोग नाष्टा हलका करे तो ही उनके लिए अच्छा है. हमारे लिए नाष्टा ज्यादा ही करना बहूत अच्छा है.
कारण उसका एकही है की अंग्रेजो के देश में सूर्य जलदी नही निकलता साल में 8-8 महिने तक सूरज के दर्शन नहीं होते और ये जठरग्नी है. नं? ये सूरज के साथ सीधी संबंध्ति है जैसे जैसे सूर्य तीव्र होगा अग्नी तीव्र होगी. तो युरोप अमेरिका में सूरज निकलता नहीं -40 तक. तापमान चला जाता है 8-8 महिने बर्फ पडता है तो सूरज नहीं तो जठरग्नी तीव्र नहीं हो सकती तो वो नाष्टा हेवियर नही कर सकते करेंगे तो उनको तकफील हो जाएँगी!

अब हमारे यहाँ सूर्य हजारो सालो से निकलता है और अगले हजारो सालों तक निकलेगा! तो हमने बिना सोचे उनकी नकल करना शुरू कर दिया! तो बाग्वट जी कहते है की, सुबह का खाना आप भरपेट खाईए. ? फिर आप इसमें तुर्क - कुतुर्क मत करीए, की हम को दुनिया दारी संभालनी है, किसलिए, पेट के लिए हीं ना? तो पेट को दूरूस्त रखईये, तो मेरा कहना है की, पेट दुरूस्त रखा तो ही ये संभाला तोही दुनिया दारी संभलती है और ये गया तो दुनिया दारी संभालकर करेंगे क्या?

मान लीजिए, पेट ठीक नहीं है, स्वास्थ ठीक नहीं है, आप ने दस करोंड कमा लिया क्या करेंगे, डॉक्टर को ही देगे ना? तो डॉक्टर को देने से अच्छा किसी गोशाला वाले को दिजीए; और पेट दुरूस्त कर लिजिए. तो पेट आपका है तो दुनिया आपकी है. आप बाहर निकलिए घरके तो सुबह भोजन कर के ही निकलिए. दोपहर एक बजे में जठराग्नी की तीव्रता कम होना शुरू होता है तो उस समय थोडा हलका खाए माने जितना सुबह खाना उससे कम खाए तो अच्छा है. ना खाए तो और भी अच्छा. खाली फल खायें, ज्यूस दही मठठा पिये. शाम को फिर खाये.

अब शाम को कितने बजे खाएं ???

तो बाग्वट जी कहते हैं हमे प्रकति से बहूत सीखने की जरूरत हैं. दीपक. भरा तेल का दीपक आप जलाना शुरू किजीए. तो पहिली लौ खूप तेजी से चलेगी और अंतिम लव भी तेजी से चलेगी माने जब दीपक बूजने वाला होगा, तो बुझने से पहले ते जीसे जलेगा, यही पेट के लिए है. जठरग्नी सुबह सुबह बहूत तीव्र होगी और शमा को जब सूर्यास्त होने जा रहा है, तभी तीव्र होगी, बहुत तीव्र होगी. वो कहते है, शामका खाना सूरज रहते रहते खालो; सूरज डूबा तो अग्नी भी डूबी. तो वैसे जैन दर्शन में कहा है सभी भोजन निषेध् है बागवटजी भी यही कहते है, तरीका अलग है, बस. जैन दर्शन मे अहिंसा के लिए कहते है, वो स्वास्थ के लिए कहेते है. तो शाम का खाना सूरज डुबने की बाद दुनिया में, कोई नहीं खाता. गाय, भैंस को खिलाके देखो नहीं खाएगी, बकरी, गधे को खिलाके देखो, खाता नहीं. हा बिलकूल नहीं खाता. आप खाते है, तो आप अपने को कंम्पेअर कर लीजीए किस के साथ है आप? कोई जानवर, जीवटाशी सूर्य डूबने के बाद खाती नही ंतो आप क्यू खा रहे है?

प्रकृती का नियम बागवटजी कहते है की पालन करीए माना रात का खाना जल्दी कर दीजिए.
सूरज डुबने के पहले 5.30 बजे - 6 बजे खायिए. अब कितना पहले? बागवट जीने उसका कॅल्क्यूलेशन दिया है, 40 मिनिट पहले सूरज चेन्नई से शाम 7 बजे डूब रहा है. तो 6.20 मिनट तक हिंदूस्थान के किसी भी कोने में जाईए सूरज डूबने तक 40 मिनिट तक निकलेगा. तो 40 मिनिट पहले शाम का खाना खा लिजीए और सुबह को सूरज निकलने के ढाई घंटे तक कभी भी खा लीजीए. दोनो समय पेट भरके खा लिजिए. फिर कहेंगे जी रात को क्या? तो रात के लिए बागवटजी कहेते है की, एक ही चीज हैं रात के लिए की आप कोई तरल पदार्थ ले सकते है. जिसमे सबसे अच्छा उन्होंने दूध कहा हैं. बागवटजी कहते है की, शाम को सूरज डूबने के बाद 'हमारे पेट में जठर स्थान में कुछ हार्मोन्स और रस या एंझाईम पैदा होते है जो दूध् को पचाते है'. इसलिए वो कहते है सूर्य डूबने के बाद जो चीज खाने लायक है वो दूध् है. तो रात को दूध् पी लीजीऐ. सुबह का खाना अगर आपने 9.30 बजे खाया तो 6.00 बजे खूब अच्छे से भूक लगेगी.

फिर आप कहेंगे जी, हम तो दुकान पे वैठे है 6 बजे तो डब्बा मँगा लीजिए. दुकान में डिब्बा आ सकता है. हाँ दुकान में आप बैठे है, 6 बजे डब्बा आ सकता है और मैं आपको हाथ जोडकर आपसे कह रहाँ हूँ की आप मेरे से अगर कोई डायबिटीक पेशंट है, कोई भी अस्थमा पेशंट है, किसी को भी बात का गंभीर रोग है आज से ये सूत्रा चालू कर दिजीए. तीन महिने बाद आप खुद मुझे फोन करके कहंगे की, राजीव भाई, पहले से बहुत अच्छा हूँ sugar level मेरा कम हो रहा है.
अस्थमा कम हो रहा है. ट्रायग्लिसराईड चेक करा लीजीए, और सूत्रा शुरू करे, तीन महीने बाद फिर चेक करा लीजीए, पहले से कम होगा, LDL बहुत तेजी से घटेगा, HDL बढ़ेगा. HDL बढना चाहिए, LDL VLDL कम होना ही चाहिए. तो ये सूत्रा बागवटजी का जितना संभव हो आप ईमानदारी से पालन करिए वो आपको स्वस्थ रहने में बहुत मदद करेगा 

!! @@@@@@@@@@@@@
Do you know ...?

Fasting drinking water phayada

Watering practice is extremely popular in Japan as soon as you wake in the morning. Publish below gives recognition to the fact that use of water for us know our friends are described. For old and serious diseases, according to a Japanese medical society as modern illnesses the water treatment che very effective results

Such as headache, body ache, heart system, arthritis, fast heart rate suddenly increased, epilepsy (fit to be), obesity, bronchitis asthma, TB, menenjaitisa, kidney and urine diseases, vomiting, gas, diarrhea, gastritis, diabetes, constipation, all eye diseases, womb problems, menstrual problems, cancer, ear, nose and throat diseases.

Way of treatment

1. Wake in the morning before the brush was 160 ml of a 4 glasses of water to drink.

2. Then the brush, but do not eat or drink anything for 45 minutes.

3. After 45 minutes you may eat or drink.

4. Breakfast, lunch and dinner was 2 hours 15 minutes, then do not drink anything at all that.

5. People who are elderly or ill and 4 glass of water that can drink together, he started drinking a little water and then gradually reach 4 glass.

6. The above treatment will eradicate diseases and those who enjoy a healthy life will increase.

The following list will show that the concept of problem-solving therapy for a number of days Must-Have

1. BP High blood pressure - 30 days

2. Gas, acidity and intestinal samasyao 10 days

3dayabitisa -30 day

4. Constipation - 10 days

5. Cancer - 180 days

6. Tuberculosis - 90 days

7. Arthritis patients face in just 3 days the first week and the second week to carry on daily therapy.

This treatment method has no side effects at the start of that person to go to urinate frequently, but continue kayamamate the resort from the body becomes healthy and active is a fairly tight.

The Chinese and Japanese drink hot tea instead of eating while drinking cool water like this, we have to practice it because we do not like to lose kamija ......

Those people who prefer to drink cold water, this article is written for them to know that.

જમ્યા બાદ એક કપ ઠંડું પીણું પીવું સારું છે પણ જમતી વખતે જો તમે ઠંડા પાણીનો ઉપયોગ કરો છો તો તે તમારા ભોજનમાં રહેલા તૈલીય પદાર્થો ( ઘી, તેલ, માખણ, વગેરે)ને થીજાવી દે છે અને એનાથી તમારી પાચનની ક્રિયા મંદ પડી જાય છે.

When the frozen grease in the stomach when acid comes into contact breaks and more quickly than the rest of the food is absorbed by the intestines. This will increase your body fat getting fat in your intestines can make you a victim of such diseases as cancer. Hot water or broth to drink while eating advice is paid.

About heart disease is a serious babata

* સ્ત્રીઓએ એક વાત સમજવી ખુબજ જરૂરી છે કે દરેક વખતે હાર્ટએટેક આવે ત્યારે ડાબા હાથમાં કળતર થાય એ જરૂરી નથી.

* Jaw pain if you have special needs awareness.

* If you have suffered a heart attack, you do not need a huge pain in the chest.

* Sometimes the vomit, nausea, sweating, and even heart attack signal or special offers.

* 60% of people were in a deep sleep when he suffered a heart attack and he did not wake up.

* Jaw pain, you probably woke up very strongly to go and get timely treatment of heart attack. The more we are aware that greater chance of surviving.

એક હૃદયરોગ નિષ્ણાતના મતે જો દરેક વ્યક્તિ આ માહિતીને તેઓ જેટલા લોકોને ઓળખે છે તેઓ સુધી પહોંચાડે, તો તમે એટલું ચોક્કસ માનજો કે તમે એક જિંદગીને બચાવી શકો છો.

Please be a true friend, and deliver this article to your all friends.

###########################  

1 is beneficial to drink a glass of buttermilk, but with much attention to him


     Having said that, good drink to the body with energy, but also increase the body's immune power. But the right time for each item and keep the attention of some of affairs it does not effect things ever. We used to drink with meals than many species exist, but not every house is often used buttermilk. Buttermilk out toxins in the body is discarded. If baked buttermilk acts like nectar. Whey is a drink that provides the body energy and immune system, also tend to increase.

In some people, winter, summer and rainy season lasts all season without whey. Regular morning and evening after dinner drink whey, whey drink pachiye nothing tevayelaone pines. Why is that? That occur when a person went against his nature at the wrong time, the wrong way, whey drink.

Whey is considered to be rare devoneya by the force of the bowel improves digestion. Anti bilious, digestive whey are inferior. Since then vipakavali sweet whey bile environment is quiet. Pittaja nature bile disorder and seek to put candy sweet chasamam. So today some interesting things about whey we'll let you mentioned in Ayurveda.

How PV whey?

Moli that sour? Most people believe that moli whey drink well, but that's not true. Dahimmanthi dilution, raw whey is completely made up, and that is cough, excessive bile sour whey, which is past. Usually there are a few that soured buttermilk tridosasamaka khatamithi called.

Thin or thick? : Second, how much water Add yogurt? Many people say that we are so dense drink buttermilk, yogurt qualities that calcium and get better. However, very little water, yogurt or buttermilk cuff is made by adding no water. After a meal everyday use if you keep drinking yoghurt, whey quarter valovine made out of butter, add water to make whey. In Sanskrit it is called and the butter milk is tridosasamaka.

What milk? Usually buffalo milk and their products use is prevalent, but more milk Buffalo Since kaphakaraka viscosity and are heavy to digest. Buffalo milk whey used in the body, swelling and stiffness occur, whereas cow's milk whey gastrointestinal Dipan. A buddhivardhaka, tridosasamaka and many vyadhiomam is pathyakara.
How tridosanasaka?

Interested in chasamam Sour gas is removed. Chasani citrus feel hunger and taste are produced. The force is properly digest food that remained. Prakrtivali talk to individuals as well as the Aeolian disorders sour whey and rock salt.

Kapha Dosha had a warm interest in the marks in chasamam turo energy is removed from the body. Kaphana cuff nature and causes disorders butter chasamam trikatu take the hook.

The whey is tridosanasaka and intestinal pitched as relief any means are used. Since whey grahi also prevents diarrhea. Chasathi edema, dropsy, hemorrhoids, grahani, mutravarodha, dysentery, manuscript, anorexia, diarrhea and enteric weakness is removed.

દરરોજ સવારના નાસ્તા અને બપોરના ભોજન પછી છાશ પીવાથી શક્તિ વધે છે અને વાળ સંબંધી રોગો પણ દૂર થાય છે અને કસમયે વાળ સફેદ થવાની સમસ્યા પણ દૂર થાય છે.

If the whey is a blessing for abdominal diseases, stomach problems, indigestion, problems like constipation should drink butter milk 34vara days.

Cooling body is drinking buttermilk and whey, so people have to drink in the summer. Buttermilk is extremely beneficial for our hair and eyes.


Buttermilk, sour whey drink several diseases should not be destroyed, but its effects can be otherwise.

If the whey is a blessing for abdominal diseases, stomach problems, indigestion, problems like constipation should drink butter milk 34vara days.

Cow dairy whey is considered to be the most beneficial. We are not wandering around drinking chansa diseases and some diseases are removed, it will not ever again.


Taking whey with a meal, a meal is easily digested, and the body more nutrition. Chansamam pinch of pepper, cumin and salt sindhalum it affects gajabanum.

Chasamam are bacteria that are extremely beneficial to the body. But never beyond the lassi should not be consumed because it increases the amount of calories the body so you can also become a victim of obesity.

Chasamam ghee should not be. While eating fresh whey is more beneficial.

Enteric drug whey

Bowel problems, in particular buttermilk is used. Relaxing stay on only whey diarrhea patient recovers quickly. It is grahisakti ulcerative whey by force. Whey is working to push out the old body of your lives. So constipation and arjinamam trikatu and rock salt evenly through the chasamam is obtained if the arjina is removed. Grahi quality of your lives because it eliminates ulcerative sankocavi.

Does not look appetite, body pain condition caused by gas, are not exactly diet, stress and fear are often the chest and belching sour if the chasanum daily intake is beneficial.

Skin, blood and bile disorders and particularly leprosy acayore recommend taking whey chetaiphoidamam heat intestines, intestinal overly ulcers, fever, inflammation, thirst as chasathi many small and large icons are removed. Since whey anti bilious patient cooling, contentment and nutrition is when chemarado is provided whey with indrajavana powder. Chasanum with hemorrhoids-masamam beliric myrobalan are made daily intake.

@@@@@@@@@@@@@@@@@

Anemia, B12 and folate deficiency PDF FILE DOWNLOAD KARAVA about
                                         CLICK HERE

////////////////////////////////////////////////// /////

Kapurna aushadhiy gun vishe jano
clichere

//////////// $$$$$$$$$ ///////////////////////
Why cancer and who are more likely to have cancer? To know

                               Click here

गर्म पानी के फायदे

♍अगर आप स्किन प्रॉब्लम्स से परेशान हैं या ग्लोइंग स्किन के लिए तरह-तरह के कॉस्मेटिक्स यूज करके थक चूके हैं तो रोजाना एक गिलास गर्म पानी पीना शुरू कर दें. आपकी स्किन प्रॉब्लम फ्री हो जाएगी व ग्लो करने लगेगी.

♍लड़कियों को पीरियड्स के दौरान अगर पेट दर्द हो तो ऐसे में एक गिलास गुनगुना पानी पीने से राहत मिलती है. दरअसल इस दौरान होने वाले पैन में मसल्स में जो खिंचाव होता है उसे गर्म पानी रिलैक्स कर देता है.

♍गर्म पानी पीने से शरीर के विषैले तत्व बाहर हो जाते हैं. सुबह खाली पेट व रात्रि को खाने के बाद पानी पीने से पाचन संबंधी दिक्कते खत्म हो जाती है व कब्ज और गैस जैसी समस्याएं परेशान नहीं करती हैं.

♍भूख बढ़ाने में भी एक गिलास गर्म पानी बहुत उपयोगी है. एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू का रस और काली मिर्च व नमक डालकर पीएं. इससे पेट का भारीपन कुछ ही समय में दूर हो जाएगा.

♍खाली पेट गर्म पानी पीने से मूत्र से संबंधित रोग दूर हो जाते हैं. दिल की जलन कम हो जाती है. वात से उत्पन्न रोगों में गर्म पानी अमृत समान फायदेमंद हैं.

♍गर्म पानी के नियमित सेवन से ब्लड सर्कुलेशन भी तेज होता है. दरअसल गर्म पानी पीने से शरीर का तापमान बढ़ता है. पसीने के माध्यम से शरीर की सारे जहरीले तत्व बाहर हो जाते हैं.

♍बुखार में प्यास लगने पर मरीज को ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए. गर्म पानी ही पीना चाहिए बुखार में गर्म पानी अधिक लाभदायक होता है.

♍यदि शरीर के किसी हिस्से में गैस के कारण दर्द हो रहा हो तो एक गिलास गर्म पानी पीने से गैस बाहर हो जाती है.

♍अधिकांश पेट की बीमारियां दूषित जल से होती हैं यदि पानी को गर्म कर फिर ठंडा कर पीया जाए तो जो पेट की कई अधिकांश बीमारियां पनपने ही नहीं पाएंगी.

♍गर्म पानी पीना बहुत उपयोगी रहता है इससे शक्ति का संचार होता है. इससे कफ और सर्दी संबंधी रोग बहुत जल्दी दूर हो जाते हैं.

♍दमा, हिचकी, खराश आदि रोगों में और तले भुने पदार्थों के सेवन के बाद गर्म पानी पीना बहुत लाभदायक होता है.

♍सुबह खाली पेट एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू मिलाकर पीने से शरीर को विटामिन सी मिलता है. गर्म पानी व नींबू का कॉम्बिनेशन शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करता है.साथ ही पी.एच. का स्तर भी सही बना रहता है.

♍रोजाना एक गिलास गर्म पानी सिर के सेल्स के लिए एक गजब के टॉनिक का काम करता है. सिर के स्केल्प को हाइड्रेट करता है जिससे स्केल्प ड्राय होने की प्रॉब्लम खत्म हो जाती है.

♍वजन घटाने में भी गर्म पानी बहुत मददगार होता है. खाने के एक घंटे बाद गर्म पानी पीने से मेटॉबालिम्म बढ़ता है. यदि गर्म पानी में थोड़ा नींबू व कुछ बूंदे शहद की मिला ली जाएं तो इससे बॉडी स्लिम हो जाती है.

♍हमेशा जवान दिखते रहने की चाहत रखने वाले लोगों के लिए गर्म पानी एक बेहतरीन औषधि का काम करता है

///////////////////////////
8 easy way to receive, your gut will always healthy, is not a disease
Divyabhaskar.co.inJan 19, 2015, 03:25:00 PM IST


Lean meat eating (Fat Without Meat)

If you sokina nonavejana you must Seven Lean mitanum because Lean Meat eating is to repair the intestinal process. Lean Meat eating is easily digested and his intestines are working properly. The remaining nutrients except imyunitine strong. Lean meat such as fish consumption is beneficial to intestinal health. 



Drink water

Drinking the right amount of water bowels to work properly and stay healthy. If you take more dose of fiber in your diet and drink enough water with heavy damage to the bowel, then this is your. So assuredly the least 8-10 glasses of water should be consumed. Making your bowels always stay healthy.


Do not eat red meat

Red Meet saturated vasani dose is higher due to increases in body weight. Apart from these, there are heavy to digest red meat and cholesterol may have a higher dose of the bowel is damaged. Red mitanum apacani excessive drinking is also a problem.


Seven probayotiksanum do

Probayotiksane to get involved in your diet to keep our intestines healthy. Many research has also proved to be the thing that probayotiksa aena intestinal diseases such as ulcerative kolaitisa helps eliminate diseases. There are many bacteria in our intestines, which can also be the cause of some diseases and some of the good bacteria digest the food works. This also keeps our digestive balance. Probayotiksa are mainly dairy products such as milk and yogurt. 



Eat more

People who eat more hunger many of them can cause health problems. So they always have the appetite to eat a little less. Always with nutritious and healthy foods to keep you healthy bowel must be taken. 


To further intake of fiber

Include in your diet foods high phaibarayukta. This is easily digested and intestines are also active. Vasayukta and processed foods such as foods to avoid constipation and other digestive problems giving birth. Insert your meal so phayabarayukta balanced food. Such as green vegetables, fruit, juice, cereals and nuts are good dose of fiber, which helps your intestines to function properly. 



Regular Exercise

If you wish that all the organs of your body work properly and if you do not fall prey to diseases, is the best way to exercise. Regular exercise is maintained and intestinal digestion efficiency may also increase. So 30 to 40 minutes daily to keep healthy bowel should exercise.


A little rest

It is also important to keep a healthy bowel rest. If your gut is associated with the brain, the body within about 95 percent of the serotonin in your intestinal tract is a different brain-related parasympathetic nervous. For this reason, keep the intestines healthy to stay healthy for the brain is also essential. When you're stressed and have a direct effect on your digestion and digestion of wastes. So quiet place, close your eyes and breath-taking 5 minutes to get the rest of your intestines.


///////////////////////////////////
Deposited in the chest and throat expectorant cure the problem permanently, the 10 best recipe
Divyabhaskar.co.inJan 20, 2015, 11:33:00 AM IST

Ginger and honey

Ayurveda, ginger and honey is considered to be both the best medicinal herbs, and many of us are also widely used. Consumption of these products may face many illnesses. This benefit is coughing and respiratory catarrh consumption remains appropriate. 100 grams of ginger to a PC, it may take 2 or 3 tablespoons of honey, mix, two tablespoons of this paste twice a day to consumption. Jamelo will split the chest and throat cough and get rid of this problem.

White pepper cure

Thus, both black and white pepper consumption is extremely beneficial for health is considered very many herbs are used. The pepper has a pungent taste. Expectorant, so the problem of efficient use of pepper are proven. For her to take half a teaspoon of white pepper and a PC. Then mix a teaspoon of honey should do. Microwave 10-15 minutes to the mixer. Deposited drinking kaphamam the paste is resting very quickly. Expectorant for permanent relief from problems mikcarane regular intake of up to a week to three times a day.

Juice of grapes

Both green and dry grapes consumption for health is considered very phayadakaraka. Natural eksapektorenta grapes and grapes for this reason consumption and Deposited expectorant for lung problem is considered to be very beneficial. Deposited on the neck and chest kaphathi release, you should take two tablespoons of the juice of grapes, to mix two tablespoons of honey. The mixer until a week do you drink regularly three times a day. This will benefit quickly. Besides, you can be ingested in the making of this refreshing mixer.


Lemon Tea

Limbu describe what is beneficial for the health of our ancient texts and was clearly impossible, and most people are aware of the benefits of limbuna. Float Float limbumam sitrika acid and honey antiseptic, expectorant Deposited element to fix the issue and has proven beneficial to eliminate pain in the throat. To make black tea for her and then put a teaspoon of fresh limbuno juice and mix one teaspoon of honey to the T Seven. Seven of the way until a few days away from your problems will be fixed.


Salt water gargle

Saline rinse water is an ancient and powerful solution. Grab a glass of lukewarm water and a teaspoon of salt Mix it should do the same. Now go take your voice to the back of the mouth, filling it slowly to the water to rinse. The water should not be swallowed. Rinse out the water debt. Keeping the water to rinse her throat until thodikavara certainly will help you and neck cuff jamelo will split. To do this three times a day to a few days.

Carrot resort

Carrots are beneficial amounts of vitamin C rich. Immune system elements entioksidenta there is more of a carrot. In addition, many vitamins and nutrients that carrots have a cough and expectorant problem quickly delivers comfort. 3-4 to take a fresh carrot juice, it should be deleted. Mix two tablespoons of honey and a little water and the mixture should be in the same mix. Drink this mixture two to three times. Jamelo chest and throat, cough gradually will be removed.


Garlic and limbuno resort

Lasanamam wonderful qualities are rooted. There are elements of lasanamam rid of swelling and there is limbumam sitrika acid. When these two things are to be used when the expectorant Deposited problem disappears. Grab a cup of boiled water and put three limbuno interest. Vatelum a little bit of garlic and rub it with a pinch of salt and half a teaspoon of black pepper powder thrown. Mix well and drink should be the same for everybody. This will be chumantara problem drinking expectorant.


Chicken Soup

Chamuça-hot chicken consumption supanum expectorant panacea to the problem is proved. Thus, consumption of chicken supanum very beneficial for health is considered. Your bronchial moiscaraijha is also its consumption. If phlegm in your throat so that it was credited to clean it two times a day do you drink hot chicken supanum. You can mix the soup with ginger and garlic, will benefit twice.


Turmeric therapy

Deposited cough remedy to the problem, turmeric is an impressive experiment. Turmeric is one of the best antiseptic. It is abundant with entioksidenta also kakaryumina there is also the advantage of the body's many internal and external problems are. Hadadara a glass of hot milk and half a teaspoon of black pepper powder to mix. Now, take a teaspoon of honey. The milk to be consumed within a few days on the chest and throat, cough jamelo will be cleared. 


Onion and limbuno formula

There are many nutrients abundant in onions and so on entioksidenta are advised to eat an onion. Expectorant problem with an onion chipping it to a PC. Now mix the juice to a limbuno. Now put this mixture in a cup of water two or three minutes to warm it up. Remove from heat rub a teaspoon of honey. Drink this mixture three times a day, sputum and phlegm During regular drinking problem will be removed immediately. 

jivanma jalanu mahatva


To cure heart disease

अमेरिका की बड़ी बड़ी कंपनिया जो दवाइया भारत मे बेच रही है! वो अमेरिका मे 20 -20 साल से बंद है! आपको जो अमेरिका की सबसे खतरनाक दवा दी जा रही है! वो आज कल दिल के रोगी (heart patient) को सबसे दी जा रही है !! भगवान न करे कि आपको कभी जिंदगी मे heart attack आए! लेकिन अगर आ गया तो आप जाएँगे डाक्टर के पास!

और आपको मालूम ही है एक angioplasty आपरेशन आपका होता है! angioplasty आपरेशन मे डाक्टर दिल की नली मे एक spring डालते हैं! उसको stent कहते हैं! और ये stent अमेरिका से आता है और इसका cost of production सिर्फ 3 डालर का है! और यहाँ लाकर वो 3 से 5 लाख रुपए मे बेचते है और ऐसे लूटते हैं आपको!

और एक बार attack मे एक stent डालेंगे! दूसरी बार दूसरा डालेंगे! डाक्टर को commission है इसलिए वे बार बार कहता हैं angioplasty करवाओ angioplasty करवाओ !! इस लिए कभी मत करवाए!

तो फिर आप बोलेंगे हम क्या करे ????!

आप इसका आयुर्वेदिक इलाज करे बहुत बहुत ही सरल है! पहले आप एक बात जान ली जिये! angioplasty आपरेशन कभी किसी का सफल नहीं होता !! क्यूंकि डाक्टर जो spring दिल की नली मे डालता है !! वो spring बिलकुल pen के spring की तरह होता है! और कुछ दिन बाद उस spring की दोनों side आगे और पीछे फिर blockage जमा होनी शुरू हो जाएगी! और फिर दूसरा attack आता है! और डाक्टर आपको फिर कहता है! angioplasty आपरेशन करवाओ! और इस तरह आपके लाखो रूपये लूटता है और आपकी ज़िंदगी इसी मे निकाल जाती है! ! !

अब पढ़िये इसका आयुर्वेदिक इलाज !!
______________________
हमारे देश भारत मे 3000 साल एक बहुत बड़े ऋषि हुये थे उनका नाम था महाऋषि वागवट जी !!
उन्होने एक पुस्तक लिखी थी जिसका नाम है अष्टांग हृदयम !! और इस पुस्तक मे उन्होने ने बीमारियो को ठीक करने के लिए 7000 सूत्र लिखे थे! ये उनमे से ही एक सूत्र है !!

वागवट जी लिखते है कि कभी भी हरद्य को घात हो रहा है! मतलब दिल की नलियो मे blockage होना शुरू हो रहा है! तो इसका मतलब है कि रकत (blood) मे acidity (अमलता) बढ़ी हुई है!

अमलता आप समझते है! जिसको अँग्रेजी मे कहते है acidity !!

अमलता दो तरह की होती है!
एक होती है पेट कि अमलता! और एक होती है रक्त (blood) की अमलता !!
आपके पेट मे अमलता जब बढ़ती है! तो आप कहेंगे पेट मे जलन सी हो रही है !! खट्टी खट्टी डकार आ रही है! मुंह से पानी निकाल रहा है! और अगर ये अमलता (acidity) और बढ़ जाये! तो hyperacidity होगी! और यही पेट की अमलता बढ़ते-बढ़ते जब रक्त मे आती है तो रक्त अमलता (blood acidity) होती !!

और जब blood मे acidity बढ़ती है तो ये अमलीय रकत (blood) दिल की नलियो मे से निकल नहीं पाता! और नलिया मे blockage कर देता है! तभी heart attack होता है !! इसके बिना heart attack नहीं होता !! और ये आयुर्वेद का सबसे बढ़ा सच है जिसको कोई डाक्टर आपको बताता नहीं! क्यूंकि इसका इलाज सबसे सरल है !!

इलाज क्या है ??
वागबट जी लिखते है कि जब रकत (blood) मे अमलता (acidty) बढ़ गई है! तो आप ऐसी चीजों का उपयोग करो जो छारीय है!

आप जानते है दो तरह की चीजे होती है!

अमलीय और छारीय !!
(Acid and alkaline)

अब अमल और छार को मिला दो तो क्या होता है! ?????
((Acid and alkaline को मिला दो तो क्या होता है) ?????

neutral होता है सब जानते है !!
_____________________
तो वागबट जी लिखते है! कि रक्त कि अमलता बढ़ी हुई है तो छारीय (alkaline) चीजे खाओ! तो रकत की अमलता (acidity) neutral हो जाएगी !!! और रक्त मे अमलता neutral हो गई! तो heart attack की जिंदगी मे कभी संभावना ही नहीं !! ये है सारी कहानी !!

अब आप पूछोगे जी ऐसे कौन सी चीजे है जो छारीय है और हम खाये ?????

आपके रसोई घर मे सुबह से शाम तक ऐसी बहुत सी चीजे है जो छारीय है! जिनहे आप खाये तो कभी heart attack न आए! और अगर आ गया है! तो दुबारा न आए !!
_________________

सबसे ज्यादा आपके घर मे छारीय चीज है वह है लोकी !! जिसे दुदी भी कहते है !! english मे इसे कहते है bottle gourd !!! जिसे आप सब्जी के रूप मे खाते है! इससे ज्यादा कोई छारीय चीज ही नहीं है! तो आप रोज लोकी का रस निकाल-निकाल कर पियो !! या कच्ची लोकी खायो !!

स्वामी रामदेव जी को आपने कई बार कहते सुना होगा लोकी का जूस पीयों- लोकी का जूस पीयों!
3 लाख से ज्यादा लोगो को उन्होने ठीक कर दिया लोकी का जूस पिला पिला कर !! और उसमे हजारो डाक्टर है! जिनको खुद heart attack होने वाला था !! वो वहाँ जाते है लोकी का रस पी पी कर आते है !! 3 महीने 4 महीने लोकी का रस पीकर वापिस आते है आकर फिर clinic पर बैठ जाते है!

वो बताते नहीं हम कहाँ गए थे! वो कहते है हम न्योर्क गए थे हम जर्मनी गए थे आपरेशन करवाने! वो राम देव जी के यहाँ गए थे! और 3 महीने लोकी का रस पीकर आए है! आकर फिर clinic मे आपरेशन करने लग गए है! और वो इतने हरामखोर है आपको नहीं बताते कि आप भी लोकी का रस पियो !!

तो मित्रो जो ये रामदेव जी बताते है वे भी वागवट जी के आधार पर ही बताते है !! वागवतट जी कहते है रकत की अमलता कम करने की सबे ज्यादा ताकत लोकी मे ही है! तो आप लोकी के रस का सेवन करे !!

कितना करे ?????????
रोज 200 से 300 मिलीग्राम पियो !!

कब पिये ??

सुबह खाली पेट (toilet जाने के बाद) पी सकते है !!
या नाश्ते के आधे घंटे के बाद पी सकते है !!
_______________

इस लोकी के रस को आप और ज्यादा छारीय बना सकते है! इसमे 7 से 10 पत्ते के तुलसी के डाल लो
तुलसी बहुत छारीय है !! इसके साथ आप पुदीने से 7 से 10 पत्ते मिला सकते है! पुदीना बहुत छारीय है! इसके साथ आप काला नमक या सेंधा नमक जरूर डाले! ये भी बहुत छारीय है !!
लेकिन याद रखे नमक काला या सेंधा ही डाले! वो दूसरा आयोडीन युक्त नमक कभी न डाले !! ये आओडीन युक्त नमक अम्लीय है !!!!

तो मित्रो आप इस लोकी के जूस का सेवन जरूर करे !! 2 से 3 महीने आपकी सारी heart की blockage ठीक कर देगा !! 21 वे दिन ही आपको बहुत ज्यादा असर दिखना शुरू हो जाएगा !!!
_____

कोई आपरेशन की आपको जरूरत नहीं पड़ेगी !! घर मे ही हमारे भारत के आयुर्वेद से इसका इलाज हो जाएगा !! और आपका अनमोल शरीर और लाखो रुपए आपरेशन के बच जाएँगे!




Hareniya surgery 3D Magic 



Bypass Surgery Video





When your child mukavaso vaccine.


Stay healthy without medication: Mr. Rajiv diksitaji
 To download (on the part of Right-click + Save .. as)

  • About candipuram 

नवजीवनी चमत्कारिक चूर्ण:

250 ग्राम मैथीदाना
100 ग्राम अजवाईन
50 ग्राम काली जीरी

उपरोक्त तीनो चीजों को साफ-सुथरा करके हल्का-हल्का सेंकना (ज्यादा सेंकना नहीं) तीनों को अच्छी तरह मिक्स करके मिक्सर में पावडर बनाकर डिब्बा-शीशी या बरनी में भर लेवें.
रात्रि को सोते समय चम्मच पावडर एक गिलास पूरा कुन-कुना पानी के साथ लेना है.
गरम पानी के साथ ही लेना अत्यंत आवश्यक है लेने के बाद कुछ भी खाना पीना नहीं है.
यह चूर्ण सभी उम्र के व्यक्ति ले सकतें है.
चूर्ण रोज-रोज लेने से शरीर के कोने-कोने में जमा पडी गंदगी (कचरा) मल और पेशाब द्वारा बाहर निकल जाएगी.
पूरा फायदा तो 80-90 दिन में महसूस करेगें, जब फालतू चरबी गल जाएगी, नया शुद्ध खून का संचार होगा. चमड़ी की झुर्रियाॅ अपने आप दूर हो जाएगी. शरीर तेजस्वी, स्फूर्तिवाला व सुंदर बन जायेगा.
'' फायदे ''
1. गठिया दूर होगा और गठिया जैसा जिद्दी रोग दूर हो जायेगा.
2. हड्डियाँ मजबूत होगी.
3. आॅख का तेज बढ़ेगा.
4. बालों का विकास होगा.
5. पुरानी कब्जियत से हमेशा के लिए मुक्ति.
6. शरीर में खुन दौड़ने लगेगा.
7. कफ से मुक्ति.
8. हृदय की कार्य क्षमता बढ़ेगी.
9. थकान नहीं रहेगी, घोड़े की तहर दौड़ते जाएगें.
10. स्मरण शक्ति बढ़ेगी.
11. स्त्री का शारीर शादी के बाद बेडोल की जगह सुंदर बनेगा.
12. कान का बहरापन दूर होगा.
13. भूतकाल में जो एलाॅपेथी दवा का साईड इफेक्ट से मुक्त होगें.
14. खून में सफाई और शुद्धता बढ़ेगी.
15. शरीर की सभी खून की नलिकाएॅ शुद्ध हो जाएगी.
16. दांत मजबूत बनेगा, इनेमल जींवत रहेगा.
17. नपुसंकता दूर होगी.
18. डायबिटिज काबू में रहेगी, डायबिटीज की जो दवा लेते है वह चालू रखना है. इस चूर्ण का असर दो माह लेने के बाद से दिखने लगेगा.
जीवन निरोग, आनंददायक, चिंता रहित स्फूर्ति दायक और आयुष्ययवर्धक बनेगा.
जीवन जीने योग्य बनेगा.

માસવાઇઝ પોસ્ટ